Tuesday, January 3, 2017

Nakaam Ho Jaata Hai Har Dard Yahaan

Nakaam Ho Jaata Hai Har Dard Yahaan

Nakaam ho jaata hai har dard yahaan,
Maa teri god dava ka kaam karati hai !!

नाकाम हो जाता है हर दर्द यहाँ,
माँ तेरी गोद दवा का काम करती है !!



Saturday, December 31, 2016

Teri Yadon Ki Rawani Aur Ye December

Teri Yadon Ki Rawani Aur Ye December

Teri yadon ki rawani aur ye..........December
Meri batein , teri kahani or ye..........December

Mera hath tera sath , lambi sadak or ye..........December
Gum sum shaamein , sunehri raatain or ye..........December

Bhige din , madham suraj , halke badal or ye..........December
Behti nadiyan , gaate panchi , udti dhundh or ye..........December

Tanha main , tanha chand , mera kamra or ye..........December
Meri ankhein , mere aansu , meri neend , tere khawab or ye..........December


तेरी यादों की रवानी और ये..........दिसम्बर
मेरी बातें , तेरी कहानी और ये..........दिसम्बर

मेरा हाथ तेरा साथ, लंबी सड़क और ये..........दिसम्बर 
गम शूम शामें, सुनहरी रातें और ये..........दिसम्बर

भीगे दिन, मद्धम सूरज, हलके बदल और ये..........दिसम्बर 
बहती नदियां, गाते पंछी, उड़ती धुंध और ये..........दिसम्बर

तन्हा मैं , तन्हा चाँद , मेरा कमरा और ये..........दिसम्बर 

मेरी आँखें , मेरे आंसू , मेरी नींद , तेरे ख्वाब और ये..........दिसम्बर




Kabhi Jo Toot Ke Barsa December

Kabhi Jo Toot Ke Barsa December

Kabhi jo toot ke barsa December,
Laga apna bahut apna December.

Guzar jata hai sara saal yun to,
Nahi kattaa magar tanha December.

Bhala barish se kya sairaab hoga,
Tumhare wasl ka piysaa December.

Woh kab bichdaa, nahi ab yaad lekin,
Bus itna yaad hai ki tha December.

Jama punji yhi hai umar bhar ki,
Meri tanhai aur mera December......!!


कभी जो टूट के बरसा दिसम्बर,
लगा अपना बहुत अपना दिसम्बर !

गुज़र जाता है सारा साल यूँ तो,
नहीं कटता मगर तन्हा दिसम्बर !

भला बारिश से क्या सैराब होगा,
तुम्हारे वासल का पियासा दिसम्बर !

वह कब बिछडा, नहीं अब याद लेकिन,
बस इतना याद है कि था दिसम्बर !

जमा पूंजी यही है उम्र भर की,
मेरी तन्हाई और मेरा दिसम्बर......!!

Ek Baar To Milne Chale Aao December Jane Wala Hai


Ek Baar To Milne Chale Aao December Jane Wala Hai

Ek baar to milne chale aao December jane wala hai
Kaisa guzra hai ye saal batao December jane wala hai.

Khush ho jao ke milne ka saal aa raha hai phir
Yun na ansu bahao December jane wala hai

Shayed ab ke baras bhi wo lot kar na aaye
Tanhaion ke abhi chod ke na jao December jane wala hai

Ye kiya ki raat-din uski yaad mein doobe rehna,
Na gham ki barish mein nahaao December jane wala hai.

Aye mere dukhon ke sathiyo khush ho jaao,
Apne apne gharon ko sajaao December jane wala hai.

Kiya pata phir December aaye na aaye
Meri mano ab tum loat aao December jane wala hai

एक बार तो मिलने चले आओ दिसम्बर जाने वाला है,
कैसा गुज़रा है ये साल बताओ दिसम्बर जाने वाला है !

खुश हो जाओ के मिलने का साल आ रहा है फिर,
यूँ न ऑंसू बहाओ दिसम्बर जाने वाला है !

शायद अब के बरस भी वो लौट कर न आये,
तन्हाईओं के अभी छोड़ के ना जाओ दिसम्बर जाने वाला है !

ये किया की रात-दिन उसकी याद में डूबे रहना,
न ग़म की बारिश में नहाओ दिसम्बर जाने वाला है !

ए मेरे दुखों के साथियो खुश हो जाओ,
अपने अपने घरों को सजाओ दिसम्बर जाने वाला है !

किया पता फिर दिसम्बर आये न आये 
मेरी मनो अब तुम लौट आओ दिसम्बर जाने वाला है !





December Mujhe Raas Aata Nahi...

December mujhe raas aata nahi

December Mujhe Raas Aata Nahi
Kayi saal guzre
Kayi saal bite
Shab-o-roz ki gardishon ka tasalsul
Dil-o-jaan mein saanson ki partein ultate hue
Zalzalon ki tarah haanpta hai...!
Cheekhte hue khawab
Aankhon ki nazuk ragein chheelte hain
Magar main har ek saal ki god mein
Jagti subah ko
Be karaan chahton se aati zindgi ki dua De kar
Ab tak wohi justaju kar raha hoon
Safar zindagi hai
Safar aagahi hai
Safar aabla payi ki dastan hai
Safar umer bhar ki sulgti hui khuwahishon ka dhuwan hai
Kai saal guzre
Kai saal bite
Musalsal safar ke kham-o-painch mein
Saans leti hui zindagi thak gayi hai
Ke jazbon ke gilli zameeno mein
Boye huye roz-o-shab ki har ek fasal ab pakk gayi hai
Guzarta hua saal bhi akhri hichkiyan le raha hai
Mere paish-o-pass
Khaof, daheshat, ajjal, barood ki mouj
Abadian noch kar apne jabron mein jakdi hui zindagi ko
Darindon ki surat
Nigalne ki mashqon mein masruf hain
Har ek rasta, mout ki raahguzar hai
Guzarta hua saal jaise bhi guzra
Magr saal ke akhri din
Nehayat  kathin hain
Har ek simt lashon ke anbaar
Zakhmi janazon ki lambi qatarein
Kahan tak koi dekh paye..?
Hawaon mein barood ki baas
Khud aman ki noha khawan hai
Koi chara gar, asr-e-hazir ka koi maseeha kahan Hai..?
Mere milne walon...!
Naiye saal ki muskurati subah gar hath aye,
To milna..!
Ke jaate huye saal ki saaton mein
Ye bujhta hua dil
Dhadakta to hai
Muskurata nahi
December mujhe raas aata nahi..


दिसम्बर मुझे रास आता नहीं
कई साल गुज़रे 
कई साल बीते
शब्-ओ-रोज़ की गर्दिशों का तसलसुल 
दिल-ओ-जान में साँसों की परतें उलटते हुए 
ज़लज़लों की तरह हाँपता है
चीखते हुए खवाब 
आँखों की नाज़ुक रगें छीलते हैं 
मगर मैं हर एक साल की गोद में 
जगती सुबह को
बे कारण चाहतों से आती ज़िंदगी की दुआ दे कर 
अब तक वही जुस्तजू कर रहा हूँ 
सफर ज़िन्दगी है 
सफर आगाही है 
सफर आबला पायी की दास्ताँ है
सफर उम्र भर की सुलगती हुई खुवाहिशों का धुवां है 
कई साल गुज़रे 
कई साल बीते 
मुसलसल सफ़र के ख़म-ओ-पेंच में
सांस लेती हुई ज़िन्दगी थक गयी है
के जज़्बों के गिल्ली ज़मीनो में
बोए हुए रोज़-ओ-शब् की हर एक फसल अब पक्क गयी है
गुजरता हुआ साल भी आखरी हिचकियाँ ले रहा है
मेरे पैश-ओ-पास 
ख़ोफ़, दहशत, अज्जल, बारूद की मौज 
आबादियां नोच कर अपने जबड़ों में जकड़ी हुई ज़िन्दगी को 
दरिंदों की सूरत
निगलने की मशक़ों में मसरूफ हैं 
हर एक रास्ता, मौत की  राहगुज़र है 
गुजरता हुआ साल जैसे भी गुज़रा 
मगर साल के आखरी दिन
निहायत कठिन हैं 
हर एक सिम्त लाशों के अंबार 
ज़ख़्मी जनाज़ों की लंबी कतारें 
कहाँ तक कोई देख पाए..?
हवाओं में बारूद की बॉस 
खुद अमन की नोह कहवां है 
कोई चारा गर, असर-ए-हाज़िर का कोई मसीहा कहाँ है..? 
मेरे मिलने वालों...!
नये साल की मुस्कुराती सुबह गर हाथ ए, 
तो मिलना..! 
के जाते हुए साल की सातों में 
ये बुझता हुआ दिल
धड़कता तो है 
मुस्कुराता नहीं 
दिसम्बर मुझे रास आता नहीं..




Mujhe Yaad Hai Abhi Tak

Mujhe Yaad Hai Abhi Tak

Mujhe yaad hai abhi tak
Jab barasti tap tap karti rim jhim mein

Haan december ki is ththrati
Sard raat ki pehli barish mein

Usne mujhse kaha tha
“Mujhe Barishein sard mosam ki bahut pasand hain”

Sard Mosam ki barishon mein se unseet rakhne wala
Mere lehjein mein sard-pan utar gaya hai

Meri zaat mein ajab tarz ki
Ek thandak utar gayi hai

Main jisko choo loon
Woh baraf ka mehboos ho jata hai

Use sard mosam ki barish se kayi nisbat thi
Use sard mosmon ki barish se kayi qurbat thi

मुझे याद है अभी तक
जब बरसती टप टप करती रिम झिम में

हाँ दिसम्बर की इस ठठरती
सर्द रात की पहली बारिश में

उसने मुझसे कहा था 
“मुझे बारिशें सर्द मौसम की बहुत पसंद हैं”

सर्द मौसम की बारिशों में से उन्सीत रखने वाला
मेरे लहजें में सर्द-पन उतर गया है

मेरी ज़ात में अजब तर्ज़ की
एक ठंडक उतर गयी है

मैं जिसको छू लूं
वह बर्फ का मेहबूस हो जाता है

उसे सर्द मौसम की बारिश से कई निस्बत थी
उसे सर्द मौसमों की बारिश से कई क़ुरबत थी




Friday, December 30, 2016

Likh Na Paunga Teri Bewafai Ki Dastan

Likh Na Paunga Teri Bewafai Ki Dastan

Likh na paunga teri bewafai ki dastan,
Maine aye dost tujhe chaha tha bahut.

Dil dhadakta tha mera tere naam ke sath,
Maine aye dost tujhe socha tha bahut.

Utha jab bhi haath mera duaa ke liye,
Apne rab se aye dost tujhe maanga tha Bahu.

Dasati hain tere bin yeh chaandni raatein,
Hoti hain tere bin aankhon se barsaat Bahut.

Maine chaha tujhe bhool jaoon bewafa sanam,
Bhool kar bhi teri yaad aati hai bahut.

लिख न पाउँगा तेरी बेवफाई की दास्ताँ,
मैंने ए दोस्त तुझे चाहा था बहुत !

दिल धड़कता था मेरा तेरे नाम के साथ,
मैंने ए दोस्त तुझे सोचा था बहुत !

उठा जब भी हाथ मेरा दुआ के लिए,
अपने रब से ए दोस्त तुझे माँगा था बहुत !

डसती हैं तेरे बिन यह चांदनी रातें,
होती हैं तेरे बिन आँखों से बरसात बहुत !

मैंने चाहा तुझे भूल जाऊं बेवफा सनम,
भूल कर भी तेरी याद आती है बहुत !!





Wo Shakhs Jaate Jaate Bhi Mujhe Hunarmand Bana Gaya

Wo Shakhs Jaate Jaate Bhi Mujhe Hunarmand Bana Gaya

Uski bepanaah yaadon ne bakhsha hai mujhmein hunar shayari ka,
Wo shakhs jaate jaate bhi mujhe hunarmand bana gaya !!

उसकी बेपनाह यादों ने बख्शा है मुझमें हुनर शायरी का,
वो शख्स जाते जाते भी मुझे हुनरमंद बना गया !!