Tuesday, August 8, 2017

Ho Jaayegi Jab Tum Se Shanasaai Zara Aur


Ho jaayegi jab tum se shanasaai zara aur,
Badh jaayegi shayed meri tanhaai zara aur.

Kyon khul gaye logon pe meri zaat ke asraar,
Ae kaash ki hoti meri ghraai zara aur.

Phir haath pe zakhmon ke nishan gin na sakoge,
Ye uljhi hui dor jo suljhaai zara aur.

Tardeed to kar sakta tha phailegi magar baat,
Iss taur bhi hogi teri ruswaai zara aur.

Kyon tark-e-taalluq bhi kiya laut bhi aaya?
Achchha tha ki hota jo wo harjaai zara aur.

Hai deep teri yaad ka roshan abhi dil mein,
Ye khauf hai lekin jo hawa aayi zara aur.

Ladna wahin dushman se jahan gher sako tum,
Jeetoge tabhi hogi jo paspaai zara aur.

Badh jaayenge kuchh aur lahoo bechne waale,
Ho jaaye agar shehar mein mehngaai zara aur.

Ek doobti dhadkan ki sadaa log na sun lein,
Kuch der ko bajne do ye shehnaai zara aur. !!

हो जायेगी जब तुम से शनासाई ज़रा और,
बढ़ जायेगी शायद मेरी तन्हाई ज़रा और !

क्यों खुल गए लोगों पे मेरी ज़ात के असरार,
ऐ काश की होती मेरी गहराई ज़रा और !

फिर हाथ पे ज़ख्मों के निशान गिन न सकोगे,
ये उलझी हुई डोर जो सुलझाई ज़रा और !

तरदीद तो कर सकता था फैलेगी मगर बात,
इस तौर भी होगी तेरी रुसवाई ज़रा और !

क्यों तर्क-ए-ताल्लुक़ भी किया लौट भी आया ?
अच्छा था कि होता जो वो हरजाई ज़रा और !

है दीप तेरी याद का रोशन अभी दिल में,
ये खौफ है लेकिन जो हवा आई ज़रा और !

लड़ना वही दुश्मन से जहाँ घेर सको तुम,
जीतोगे तभी होगी जो पासपाई ज़रा और !

बढ़ जायेंगे कुछ और लहू बेचने वाले,
हो जाए अगर शहर में महंगाई ज़रा और !

एक डूबती धड़कन की सदा लोग न सुन लें,
कुछ देर को बजने दो ये शेहनाई ज़रा और. !!




Monday, August 7, 2017

Dil Ki Viraniyan Jatane Ko...

Dil-Ki-Viraniyan-Jatane-ko


Akhiri tis azamane ko,
Ji to chaha tha muskurane ko.

Yaad itni bhi sakht jaan to nahi,
Ek gharaunda raha hai dahane ko.

Sangrezon mein dhal gaye aansoo,
Log hansate rahe dikhane ko.

ZaKhm-e-nagma bhi lau to deta hai,
Ek diya rah gaya jalane ko.

Jalane wale to jal bujhe akhir,
Kaun deta Khabar zamane ko.

Kitne majbur ho gaye honge,
Ankahi baat munh pe lane ko.

Khul ke hansana to sab ko ataa hai,
Log tarasate rahe Ek bahaane ko.

Reza reza bikhar gaya insan,
Dil ki viraniyan jatane ko.

Hasraton ki panahgahon mein,
Kya thikane hain sar chhupane ko.

Hath kanton se kar liye zakhmi,
Phool balon mein ek sajane ko.

As ki baat ho ki sans "Ada" ?
Ye Khilaune hain tut jane ko.

आखिरी तीस आज़माने को,
जी तो चाहा था मुस्कुराने को !

याद इतनी भी सख्त जान तो नहीं,
एक घरौंदा रहा है ढाहने को !

संगरेज़ों में ढल गए आंसू,
लोग हंसते रहे दिखने को !

ज़ख्म-ए-नगमा भी लो तो देता है,
एक दीया रह गया जलने को !

जलने वाले तो जल बुझे आखिर,
कौन देता खबर ज़माने को !

कितने मजबूर हो गए होंगे,
अनकही बात मुँह पे लाने को !

खुल के हंसना तो सब को आता है,
लोग तरसते रहे एक बहाने को !

रेज़ा रेज़ा बिखर गया इंसान,
दिल की वीरानियाँ जताने को !

हसरतों की पनाहगाहों में,
क्या ठिकाने हैं सर छुपाने को !

हाथ काँटों से कर लिए ज़ख़्मी,
फूल बालों में एक सजाने को !

अस की बात हो की साँस "अदा"
ये खिलौने हैं टूट जाने को !!




Ghar Ka Rasta Bhi Mila Tha Shayed

Ghar-Ka-Rasta-Bhi-Mila-Tha


Ghar ka rasta bhi mila tha shayed,
Raah mein sang-e-wafaa tha shayed.

Is qadar taiz hawa ke jhonke,
Shaakh par phool khila tha shayed.

Jis ki baaton ke fasaane likhe,
Us ne to kuch na kaha tha shayed.

Log be-mehr na hote honge,
Veham sa dil ko hua tha shayed.

Tujh ko bhule to dua tak bhule,
Aur wohi waqt-e-duaa tha shayed.

Khoon-e-dil mein to duboya tha qalam,
Aur phir kuch na likha tha shayed.

Dil ka jo rang hai yeh rang-e-adaa,
Pehle ankhon mei rachaa tha shayed.

घर का रास्ता भी मिला था शायद, 
राह में संग-ए-वफ़ा था शायद !

इस क़दर तेज़ हवा के झोंके,
शाख पर फूल खिला था शायद !

जिस की बातों के फ़साने लिखे,
उस ने तो कुछ न कहा था शायद !

लोग बे-मैहर न होते होंगे,
वहम सा दिल को हुआ था शायद !

तुझ को भूले तो दुआ तक भूले,
और वही वक़्त-ए-दुआ था शायद !

खून-ए-दिल में तो डुबोया था क़लम,
और फिर कुछ न लिखा था शायद !

दिल का जो रंग है यह रंग-ए-अदा,
पहले आँखों में रचा था शायद !!





Ye Fakhar To Hasil Hai Ke Bure Hain Ke Bhale Hain

Ye-Fakhar-To-Hasil-Hai-Ke-Bure-Hain-Ke-Bhale-Hain

Ye fakhar to hasil hai ke bure hain ke bhale hain,
Do-char qadam hum bhi tere sath chale hain.

Jalna to chiraghon ka muqaddar hai azal se,
Ye dil ke kanwal hain ke bujhe hain na jale hain.

The kitne sitare ke sar-e-shaam hi dube,
Hangam-e-seher kitne hi khurdheed dhale hain.

Jo jhel gaye hans ke kari dhoop ke tewar,
Taroon ki khunk chhaon main wo log jale hain.

Ek shama bujhaee to kai or jala li,
Hum gardish-e-douran se bari chaal chale hain.

ये फ़ख़र तो हासिल है के बुरे हैं कि भले हैं,
दो-चार क़दम हम भी तेरे साथ चले हैं !

जलना तो चिराग़ों का मुक़द्दर है अज़ल से,
ये दिल के कँवल हैं के बुझे हैं न जले हैं !

थे कितने सितारे के सर-ए-शाम ही डूबे, 
हंगम-इ-सेहर कितने ही खुरदीद ढले हैं !

जो झेल गए हंस के कड़ी धूप के तेवर,
तारों की खुनक छाओं  मैं वो लोग जले हैं !

एक शमा बुझाई तो कई और झाला ली,
हम गर्दिश-ए-दौरान से बरी चाल चले हैं !




Aalam Hi Aur Tha Jo Shanasaiyon Mein Tha

Aalam Hi Aur Tha Jo Shanasaiyon Mein Tha

Aalam hi aur tha jo shanasaiyon mein tha,
Jo deep tha nigaah ki parchhaaiyon mein tha.

Wo be-panaah khauf jo tanhaiyon mein tha,
Dil ki tamaam anjuman-aaraaiyon mein tha.

Ek lamha-e-fusun ne jalaaya tha jo diya,
Phir umar bhar khayaal ki raanaaiyon mein tha.

Ek khwaab-guun si dhoop thi zakhmon ki aanch mein,
Ek saaebaan sa dard ki purwaaiyon mein tha.

Dil ko bhi ek jaraahat-e dil ne ataa kiya,
Ye hausla ki apne tamaashaaiyon mein tha.

katata kahan tavil tha raaton ka silsila,
Suraj meri nigaah ki sachchaaiyon mein tha.

Apni gali mein kyon na kisi ko wo mil saka,
Jo etimaad baadiya-paimaaiyon mein tha.

Is ahd-e-khud-sipaas ka puchho ho maajra,
Masroof aap apni paziraaiyon mein tha.

Us ke huzoor shukr bhi aasaan nahi "Ada",
Wo jo qareeb-e-jaan meri tanhaaiyon mein tha. !!

आलम ही और था जो शनासियों में था, 
जो दीप था निगाह की परछाइयों में था.

वो बे-पनाह ख़ौफ़ जो तन्हाईयों में था, 
दिल की तमाम अन्जुमन-अराइयों में था.

एक लम्हा-ए-फुसन ने जलाया था जो दीया, 
फिर उम्र भर ख़याल की रानाईयों में था.

एक ख्वाब-गुन सी धूप थी ज़ख़्मों की आँच में, 
एक सायबान सा दर्द की पुरवाइयों में था.

दिल को भी एक जरहत-ए-दिल ने अता किया, 
ये होंसला की अपने तमाशाइयों में था.

कटता कहाँ तवील था रातों का सिलसिला, 
सूरज मेरी निगाह की सच्चाइयों में था.

अपनी गली में क्यों न किसी को वो मिल सका, 
जो एतिमाद बडिया-पैमाइयों में था.

इस अहद-ए-खुद-सिपास का पुछो हो माजरा, 
मसरूफ आप अपनी पज़ीराइयों में था.

उस के हुज़ूर शुक्र भी आसान नहीं "अदा", 
वो जो क़रीब-ए-जान मेरी तन्हाइयों में था. !!

Tuesday, January 3, 2017

Nakaam Ho Jaata Hai Har Dard Yahaan

Nakaam Ho Jaata Hai Har Dard Yahaan

Nakaam ho jaata hai har dard yahaan,
Maa teri god dava ka kaam karati hai !!

नाकाम हो जाता है हर दर्द यहाँ,
माँ तेरी गोद दवा का काम करती है !!



Saturday, December 31, 2016

Teri Yadon Ki Rawani Aur Ye December

Teri Yadon Ki Rawani Aur Ye December

Teri yadon ki rawani aur ye..........December
Meri batein , teri kahani or ye..........December

Mera hath tera sath , lambi sadak or ye..........December
Gum sum shaamein , sunehri raatain or ye..........December

Bhige din , madham suraj , halke badal or ye..........December
Behti nadiyan , gaate panchi , udti dhundh or ye..........December

Tanha main , tanha chand , mera kamra or ye..........December
Meri ankhein , mere aansu , meri neend , tere khawab or ye..........December


तेरी यादों की रवानी और ये..........दिसम्बर
मेरी बातें , तेरी कहानी और ये..........दिसम्बर

मेरा हाथ तेरा साथ, लंबी सड़क और ये..........दिसम्बर 
गम शूम शामें, सुनहरी रातें और ये..........दिसम्बर

भीगे दिन, मद्धम सूरज, हलके बदल और ये..........दिसम्बर 
बहती नदियां, गाते पंछी, उड़ती धुंध और ये..........दिसम्बर

तन्हा मैं , तन्हा चाँद , मेरा कमरा और ये..........दिसम्बर 

मेरी आँखें , मेरे आंसू , मेरी नींद , तेरे ख्वाब और ये..........दिसम्बर




Kabhi Jo Toot Ke Barsa December

Kabhi Jo Toot Ke Barsa December

Kabhi jo toot ke barsa December,
Laga apna bahut apna December.

Guzar jata hai sara saal yun to,
Nahi kattaa magar tanha December.

Bhala barish se kya sairaab hoga,
Tumhare wasl ka piysaa December.

Woh kab bichdaa, nahi ab yaad lekin,
Bus itna yaad hai ki tha December.

Jama punji yhi hai umar bhar ki,
Meri tanhai aur mera December......!!


कभी जो टूट के बरसा दिसम्बर,
लगा अपना बहुत अपना दिसम्बर !

गुज़र जाता है सारा साल यूँ तो,
नहीं कटता मगर तन्हा दिसम्बर !

भला बारिश से क्या सैराब होगा,
तुम्हारे वासल का पियासा दिसम्बर !

वह कब बिछडा, नहीं अब याद लेकिन,
बस इतना याद है कि था दिसम्बर !

जमा पूंजी यही है उम्र भर की,
मेरी तन्हाई और मेरा दिसम्बर......!!